महत्वाची बातमी

आध्यात्म ही मानसिक तनाव पर काबू पाने का एकमात्र रास्ता है

Advertisements
Advertisements

सुरजित सिंग

आज के कोरोना महामारी और लॉक डॉउन के हालात ने मानव जाति के मन मस्तिष्क और शरीर को बुरी तरह डिस्टर्ब करके रख दिया है यही वजह है कि आज वायरस से अधिक जान टेंशन, तनाव, घबराहट और डिप्रेशन के कारण जा रही है। ऐसे में इंसान के लिए मेडिटेशन या आध्यात्म बेहद महत्वपूर्ण हो गया है। ऐसा मानना है मेडिटेशन गुरु सुवि स्वामी का, जो एक सेलिब्रिटी वेलनेस कोच, सर्टिफिकेट प्राप्त रेकी मास्टर, मेडिटेटर, टैरोट कार्ड रीडर, अरोमा थेरेपिस्ट, क्रिस्टल हीलर, एस्ट्रोलॉजर और जमीन से जुड़ी हुई एक बेहद सामान्य व्यक्तित्व रखने वाली साधिका हैं। वे ऐसे सभी लोगों की मदद करने मेे जुटी हुई हैं जो शारीरिक और मानसिक रूप से डिस्टर्ब हैं। वह निःस्वार्थ भाव से इंसानियत की सेवा में लगी हुई है । उन्होने बहुत ही कम उम्र में ज्ञान और आध्यात्म के क्षेत्र में उपलब्धियां अर्जित कर ली थी। सद् विचारों और सद्गुणों के धनी ,सुंदर वाणी, सुंदर मन और सरल स्वभाव से समृद्ध सुवि स्वामी जी एक इंजीनियर भी है और ठाकुर इंजीनियरिंग कॉलेज में लेक्चरर रह चुकी हैं उन्होंने श्री हरि भगवान विष्णु जी और परमपिता शिव शंकर भोलेनाथ की उपासिका हैं। इनके साथ ओम मेडिटेशन करके लोग मन की शांति प्राप्त करते हैं और रूह को सुकून मिलता हुआ महसूस करते हैं।
इनके द्वारा स्थापित ईश्वरा लाईफ़ साइंसेज मानसिक तनाव और चिंता से निजात दिलाने का काम करता आ रहा हैं। आध्यात्म के बल पर वह लोगों की जिंदगी में आई उथल पुथल पर काबू पाने का मंत्र बताती हैं। मौजूदा दौर में इंसान जिस परेशानी और उलझनों का शिकार है ऐसे में आध्यात्म ही एक ऐसा रास्ता है जिसपर चल कर मानव जाति की सफलता संभव है। जिस तरह आज खुदकुशी के मामले बढ़ रहे हैं ऐसे हालात में मेडिटेशन द्वारा इंसान अपने तनाव और डिप्रेशन पर कंट्रोल कर सकता है और ईश्वरा लाईफ़ साइंसेज़ ऐसे इंसान के लिए किसी अचूक दवा की तरह है। 2015 में उन्होंने मानव शरीर की एनाटॉमी पर रिसर्च की शुरुआत की थी और 24 वाइटल आर्गन की गहराई से अध्ययन की, फिर नाड़ी शास्त्र , आयुर्वेदा, रेकी मास्टरशिप, चक्रा मास्टरशिप, होम्योपैथी, अरोमाथैरापी, स्किनथैरापी, क्रिस्टल हिलिंग, टारोट कार्ड रीडिंग और भी अलग-अलग क्षेत्र में ना सिर्फ उन्होंने ज्ञान अर्जित किया बल्कि सैकड़ों लोगों को ट्रीटमेंट और हीलिंग के साथ परम प्रसन्नता और आनंद का मार्ग भी दिखाया है।

0 Reviews

Write a Review

Advertisements

You may also like

विदर्भ

संस्थात्मक अलगीकरणात राहण्यास इच्छुक नसलेल्या अतिसौम्य लक्षणे असणा-या रुग्णांना गृहअलगीकरणात राहण्याची परवाणगी

योगेश कांबळे वर्धा , दि.22 – सध्या जिल्हयात कोरोना बाधितांची संख्या वाढत आहे. अशा परिस्थितीत ...
महत्वाची बातमी

पुराच्या पाण्यात अडकलेल्याना वाचवितांना एकाच दुर्देवी मृत्यू ,

पुराच्या पाण्यात अडकलेल्याना वाचवितांना एकाच दुर्देवी मृत्यू , अमीन शाह मेहकर तालुक्यातील दे , माळी ...
विदर्भ

तळेगांव आठवडी बाजारात व्यापाऱ्यांची मनमानी, प्रशासनाच्या आदेशाला झुगारून जबरदस्तीने भरविला बाजार

पोलिसांनी पार पाडली फक्त बघ्याची भूमिका तर प्रशासनाच्या नाकावर टिच्चून गर्दी जमवत भरला बाजार   ...
महत्वाची बातमी

पत्रकार सर्वांचा , मात्र संकट आल्यावर पत्रकारांचे कोण्ही नाही , पत्रकारांनो उघडा डोळे,नीट बघा –  “स्वतःकडे”

राम खुर्दळ पत्रकारांचे अनेक स्थर आहेत त्यातील बिनपगारी ( केवळ महिना से-दोनशे-पाचशे ) मानधनावर ,किंवा ...