मुंबई

वाघिवळीवाडा बुद्धलेणी बचाव हेतू केंद्रीय मंत्री आठवले दौडे.

Advertisements
Advertisements

आंतरराष्ट्रीय पूज्य बौद्धभिक्षु शिलबोधी के संघर्षं मे केंद्र की विशेष भूमिका

नई मुंबई , (संवाददाता) :- वाघवळीवाडा बुद्ध लेणी के संरक्षण और पुनर्वसन की प्रश्न पँथर ऑफ सम्यक योद्धा ने चलाया है. आंतरराष्ट्रीय बौद्धभिक्षु भदंत शिलबोधी के नेतृत्व मे एक संविधानिक संघर्ष छेडा है, और येह संघर्ष पुरे महाराष्ट्र के साथ भारत के कइ राज्यो मे जोर पकड रहा है. इसी कारण वश केंद्रियमंत्री रामदास आठवले को गुंफा स्थल पर आणे मजबूर कर दिया.

आंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे के निर्माण तहत गाव परिसर का पुनर्वास किया जा रहा है.

प्राचीन और ऐतिहासिक गुंफावो मे देवी केरूमाता की पूजा करके गुंफा को स्थानीय ग्रामिनो द्वारा प्रत्यक्ष अप्रत्येक्ष संरक्षित किया गया है. मात्र सिडको प्रशासन द्वारा बौद्ध गुंफावो को नष्ट किया जा रहा है.
संगठनके राष्ट्रीय उपाध्यक्ष वीरेंद्र लगाडे को इस घटना के बारे मे पता चला, तो इस घटना के बारे मे राष्ट्रीय महासचिव पँथर डॉ राजन माक्निकर को जाणकारी दि.
और बौद्धभिक्षु शिलबोधिके नेतृत्व मे आंदोलन का आगाज किया,

गाव के बचे लोगो का पुनर्वास और लेणी बचाव के लिये OBC नेता पाटील पिछले 4 साल से संघर्ष कर रहे ठे किंतु उनको अनुयायीयों का सपोर्ट ना मिल पाने से आंदोलन धिमी गती से चल रहा था.

पूजनीय भदंत शिलबोधी ने सर्वर्वजनिक रूप से प्रशासन पर हमला किया, उग्र आंदोलन की चेतावणी दि, एदी गुंफावो को संरक्षित ना किया तो येह बौद्धभिक्षुवो का जागतिक आंदोलन होगा.

गुंफा हिंदू नही बौद्ध है ऐसे केहकर कुछ लोगो ने आंदोलक को गुमराह किया किंतु बौद्ध गुरू शिलबोधी इंहोणे कहा की लेणी बौद्ध हो, हिंदू और जैन उससे कूछ नही लेना देना, येह ऐतिहासिक प्राचीन वास्तू देश की धरोहर है किसीं भी हालत मे गुंफावो को हम संरक्षित करेंगे. इस बात को सभी प्रसारमाध्यम द्वारा प्रचार हुआ तब RPI के स्थानिक नेतावो द्वारा केंद्रीय मंत्री आठवले को निमंत्रित कर लेणी का मुआवना किया,

अवशेशो को संरक्षित करके बौद्ध स्तूप निर्माण के संबंध मे पुरातन विभाग एवं महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री को पत्र भेजेंगे ऐसा केंद्रीय मंत्री रामदास आठवले ने पत्रकारो से कहा.

गुंफावो का मुआवना व निरीक्षण करणे आये आठवले के साथ बौद्धसंत शिलबोधी, सम्यक योध्दा डॉ राजन माक्निकर, ऍडवोकेट रंशोर, वीरेंद्र लगाडे, श्रावण गायकवाड, OBC
नेता पाटील, RPI के डेप्युटी मेयर जगदीश गायकवाड, सिद्राम ओव्हाळ, खरे आदी और कई गन्मान्य व्यक्ती और शेकडो कार्यकर्ता उपस्तिथ ठे.

देश किं पहली बौद्ध गुंफा है जिस्के लिये हिंदू मुस्लिम बौद्ध और गैरबौद्ध लेणी /गुंफा को बचाणे के लिये चल पडे है.
इस बात का पुरा श्रेय OBC नेता पाटील को जाता है, क्यू की उंहोणे समाज मे जनजागृती अच्छे से लाई है, ऐसा बौद्ध साधू शिलबोधी ने कहा.

पाटील के सकारात्मक आंदोलन मे पुरे बौद्ध भिक्षु और पँथर के सम्यक योद्धा सामील होकर पाटील को हरकदम सहायता प्रदान करणे का आश्वासन भी इस समय दिया.

इस आंदोलन मे अब बौद्ध साधुवो के साथ विविध राजनेता भी सामील हो रहे है, BRSP प्रमुख ऍडवोकेट सुरेश माने अब केंद्रीय मंत्री रामदास आठवले फीर RPI डेमोक्रॅटिक युवा नेते कनिष्क कांबळे और RPI के राजाराम खरात भी इस आंदोलन मे सहभागी हुये है.

बौद्धभिक्कु ने भारत के सभी इतिहासप्रेमी को गुंफा गड किल्लो के अभ्यासक विद्वान एवं अनुयायी से इस गुंफा संरक्षण और आंदोलन मे भाग लेने और पँथर ऑफ सम्यक योद्धा इस राष्ट्रीय संघटन से जुडणे के लिये 9004363903 इस व्हाट्सअप्प मोबाईल पर संपर्क करणे की अपील की है.

0 Reviews

Write a Review

Advertisements

You may also like

मुंबई

ऍड. बाळासाहेब आंबेडकरांच्या मार्गदर्शनाखाली रिपाई चे सर्व गट एकत्र व्हावेत – आरपीआय डेमोक्रॅटिक पक्ष

पोलीसवाला ऑनलाइन मिडिया मुंबई , दि. १७ – (प्रतिनिधी) देशासह राज्यात सवर्णांकडून वंचित समूहावर होत ...
मुंबई

अन्याय विरुद्ध लढण्याची धमक भिम आर्मी मध्येच , नेहाताई शिंदे यांचे प्रतिपादन तर दलित , मुस्लिम ओबीसी नी एकत्र यावे – दीपक हनवते चे आव्हान

मुंबई – प्रतिनिधी  देशात सत्ता कुठल्याही पक्षाची असली तरी रोज कुठे ना कुठे दलितांची कुचंबणा ...
मुंबई

मराठा समाजाला कायमस्वरुपी आरक्षण द्या – राष्ट्रीय स्वराज्य सेना

 मुंबई – सर्वच्य न्यायालयाने मराठा समाजाला शिक्षणात व नोकरी मध्ये महाराष्ट्र शासनाने दिलेल्या आरक्षणास स्थगिती ...
मुंबई

किसान सभेच्या मागण्यांसंदर्भात योग्य निर्णय घेऊ – राज्यपाल भगतसिंह कोश्यारी

इको सेन्सिटिव्ह झोन रद्द करून पर्यावरणाचे संवर्धनासाठी आणि वनाधिकार कायद्याच्या जलद अंमलबजावणीसाठी घेतली भेट मुंबई ...